दिशाहीनता आज के आम युवा की जिन्दगी का सच है। देश के बहुसंख्यक युवा इस समस्या से घिरे हुए हैं। जीवन की राहों पर उनके पाँव बहकने, भटकने, फिसलने लगे हैं। वे जो कर रहे हैं उसके अंजाम या मंजिल का उन्हें न तो पता है और न ही इसके बारे में उन्हें सोचने की फुरसत है। बस जिज्ञासा, कौतूहल, ख्वाहिश, शौक या फैशन के नाम पर उन्होंने इन टेढ़ी-मेढ़ी राहों को चुना है। या फिर तनाव, हताशा-निराशा या कुण्ठा ने जबरन उन्हें इन रास्तों पर धकेल दिया है। मीडिया, टी.वी., फिल्में और आसपास का माहौल उन्हें इसके लिए प्रेरित कर रहे हैं। सामाजिक वातावरण इस दिशाहीनता के लिए काफी कुछ हद तक जिम्मेदार है।

समाज के कर्णधार, कुछ एक पत्र-पत्रिकाओं के लेखक इस समस्या को लेकर ङ्क्षचतित जरूर नजर आते हैं। पर इसके कारगर समाधान की ओर किसी की कोई सार्थक कोशिश नहीं है। बहुत हुआ तो युवाओं की भूलें बताकर उन्हें कुछ नसीहतें देकर छुट्टी पा ली जाती है। समाचार पत्र या टी.वी. माध्यम युवाओं में बढ़ रहे नशे के चलन की खबरें जरूर छापते और दिखाते हैं। पर ऐसा क्यूँ हुआ इसकी पड़ताल करने की फुरसत किसी को नहीं है। उनके लिए नशा जुटाते कौन लोग हैं, किसने उन्हें इस ओर धकेला? ये सवाल हमेशा अनुत्तरित रह जाते हैं, क्योंकि इनकी ढूँढ-खोज में चटपटी खबर जैसा कुछ भी नहीं है।

आज युवाओं में जिस नशे का जोर है, उसमें शराब, सिगरेट, चरस, गाँजा, अफीम, तम्बाकू आदि का कोई जगह नहीं है। ये सब तो गुजरे हुए जमाने की ओल्ड फैशन चीजें हैं। सिगरेट-शराब तो आज साफ्ट आइटम कहे जाते हैं। आज का नया शगल जिसे युवा अपने तनाव को दूर करने का साधन बना रहे हैं, कुछ और ही हैं। यह कुछ और उन्हें पबों, नाइट क्लबों या कॉफी रेस्तराँओं की ओर खींचता है। यहाँ उन्हें मिलता है चिल्ड वाटर, एनर्जी ड्रिंक्स, बेसिर पैर वाले हँसी-मजाक, अपने में डुबो देने वाला नया संगीत और शर्ट्स। इनमें से प्रत्येक शब्द कूट हैं। उदाहरण के लिए शर्ट्स को लें-इसका मतलब नसों के जरिए ली जानें वाली हेरोइन या कोकीन से है।

अभी पिछले महीनों में एक बड़े स्वर्गीय राजनेता के सुपुत्र की नशाखोरी का मामला अखबारों में काफी चॢचत रहा। इसमें सच्चाई कितनी थी यह तो कहने-सुनने वाले जानें, पर इतना जरूर है युवाओं में बढ़ती नशे की लत और इसके मायावी रूपों से इंकार नहीं किया जा सकता। इसमें बहुत कुछ ऐसा है जो युवाओं को भटकाए हुए है। उनके कदमों को आत्मघाती रास्ते पर बलात् घसीटे जा रहा है।

साइबर कैफे का चलन भी युवाओं में बड़ी तेजी से पनपा है। साइबर की दुनिया के फायदों से इंकार नहीं किया जा रहा। इंटरनेट ने जो ज्ञान एवं सूचना के नये आयाम खोले हैं, उससे देश और दुनिया में कोई अपरिचित नहीं हैं। सूचना क्रान्ति के इस अनूठे उपकरण ने शोध-अनुसंधान और ज्ञान के आदान-प्रदान में काफी कुछ जोड़ा है, पर जिन्दगी से भटके युवक-युवतियाँ इसका दुरुपयोग भी कम नहीं कर रहे। साइबर कैफे उनके जीवन में जहर घोलने की बड़ी भूमिका निभा रहे हैं। विकसित राज्यों एवं बड़े शहरों में इसकी चर्चा और चलन को तो सभी जानते हैं। पर नये बने राज्य एवं छोटे शहरों में भी यह बीमारी कम नहीं है।

अभी हाल में नवगठित राज्य छत्तीसगढ़ का एक मामला काफी समय तक अखबारों की खबर बनकर छपता रहा। इस खबर के मुताबिक अकेले रायपुर में १५० साइबर कैफे पंजीकृत हैं। समाचार संवाददाताओं और जानकारों की राय में अधिकतर साइबर कैफे पहुँचने वाले युवक- युवतियाँ चैटिंग के बहाने पोर्न साइट को जरूर खँगालते हैं। और अब तो यह खुले आम चलता है। २४ घण्टे उपलब्ध इस सुविधा की उपलब्धियाँ क्या होंगीं, इसे बिना कहे और बिना लिखे भी आसानी से सोचा और समझा जा सकता है।

युवाओं में पनपती दिशाहीनता के आयाम और भी हैं और ये इतने ज्यादा हैं कि यदि इन सबकी चर्चा एक साथ करनी हो, तो इसके लिए एक आलेख का कलेवर पर्याप्त नहीं है। इसके लिए तो किसी महाग्रन्थ या विश्वकोश का कलेवर जुटाने का साहस करना पड़ेगा। पर इस सब चर्चा में सार और समझदारी भरा लाख टके का सवाल यह है कि इस दिशाहीनता के लिए दोषी कौन है? क्या केवल ये युवक- युवतियाँ अथवा वे परिवार और वह समाज जहाँ ये पल- बढ़ रहे हैं। क्या केवल युवा पीढ़ी को कोसकर अपने कर्त्तव्य की इतिश्री कर लेनी चाहिए या फिर समाज को, परिवार को अपने दायित्व निभाने के लिए कमरकसनी चाहिए। जहाँ तक बात अपनी है तो यहाँ यह प्रकट करने में तनिक भी संकोच नहीं कि हम विचारशील कहे जाने वाले सामाजिक माहौल को प्रेरणादायक बनाने में नाकाम रहे हैं। अथवा यदि इस सम्बन्ध में कुछ किया भी गया है तो वह बहुत थोड़ा है।

जिन्होंने इतिहास के पन्ने पलटे हैं, वे जानते हैं कि जब किसी प्रेरक व्यक्तित्व ने युवाओं का सन्मार्ग एवं सदुद्देश्य के लिए चल पड़ने का आह्वान किया है, तब- तब युवकों- युवतियों ने जिन्दगी की सही दिशा चुनने में कोई कोर- कसर नहीं रखी है। महात्मा गाँधी ने जैसे ही असहयोग आन्दोलन की चर्चा चलायी, त्यों ही बिना देर लगाये किशोर व युवक घरों से निकल पड़े। अँग्रेजी चीजों के बहिष्कार में युवाओं की भूमिका सबसे अग्रणी रही। राष्ट्रपिता ने १९४२ई. में जैसे ही पुकारा- ‘‘अंग्रेजो! भारत छोड़ो!’’ — त्यों ही लाखों युवक- युवतियाँ अंग्रेजों को भारत से खदेड़ने के लिए घर छोड़कर चल पड़े। यह एक ऐसी सच्चाई है जिसे इतिहास में आसानी से पढ़ा जा सकता है। अतीत को थोड़ा सा कुरेदें, तो सुनायी देता है, आजादी के महानायक सुभाष का आह्वान- ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूँगा।’ और साथ ही दिखाई देती है- उन दीवाने युवाओं की भीड़ जो अपने खून की एक- एक बूँद देने के लिए बढ़ चले थे।

और अभी ज्यादा पुरानी नहीं हुई है- लोकनायक जयप्रकाश की कहानी, जिन्होंने कुछ ही दशक पहले युवाओं को पुकारा था। लोकनायक के पीछे कितने युवा चल पड़े थे, यह दृश्य देखने वाले अभी भी बहुतायत में हैं। जिन्होंने उन दिनों देखा है, उन्हें अभी भी याद है उस वृद्ध महामानव का तरुण स्वर- ‘डरो मत! मैं अभी जिन्दा हूँ।’ उनके एक इशारे पर देश की तरुणाई कुछ सार्थक करने के लिए मचल उठी थी।

आज का सच तो यह है कि कुछ लोभ- लालच में फँसे हुए लोग युवाओं का बाजार के रूप में उपयोग कर रहे हैं। उन्हें युवाओं के चरित्र- व्यक्तित्व की चिंता नहीं, चिंता है तो बस अपना सामान बेचने की। वर्तमान के क्षण यही कहते हैं कि भारत विश्व भर की तमाम कम्पनियों के लिए बड़ी जनसंख्या के कारण आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। खासकर इतनी बड़ी जनसंख्या का ५४ प्रतिशत हिस्सा अगर २५ वर्ष के नीचे का हो तो बाजार के लिए किसी देश का परिदृश्य और भी लुभावना हो जाता है। एक मार्केटिंग् रिसर्च कम्पनी के वाइस प्रेसीडेण्ट सुधीर गुप्ता का कहना है कि आज युवाओं को गुमराह कर उन्हें अपना सामान सौंपने के लिए कम्पनियाँ एग्रेसिव हो रही हैं। अभी कुछ ही समय पहले की खबर है कि यामाहा कम्पनी ने बाइक का अपना नया मॉडल लांचकिया। यह लांच  उतनी बड़ी खबर नहीं थी, जितनी की बड़ी खबर लांच के लिए चुना गया स्थान था। दरअसल यह लांच रखा गया था एक फाइव स्टार होटल के पब में। यामाहा मोटर्स के सी.ई.ओ. टोमोटाका इशिकावा यह बताते हुए बड़े उत्साहित दिखे कि अब हमने एक पब में किसी प्रोजेक्ट की लांच की है।

यह तरीका सम्भव है किसी कम्पनी के व्यावसायिक हितों का हो, पर यह युवाओं के जिन्दगी के हितों से मेल नहीं खाता। आज जरूरत इस कुचक्र को तोड़ने की है और समाज में युवाओं के लिए प्रेरक एवं उत्साहवर्धक माहौल तैयार करने की भी। अपना युग निर्माण मिशन अपने ढंग से ऐसे कई प्रयोग कर रहा है। बस आवश्यकता इसके लिए युवाओं की व्यापक भागीदारी की है। जिसे स्वयं युवाओं को करना है, क्योंकि युवाओं की दिशाहीनता के कुचक्र को युवा ही तोड़ सकते हैं। उन्हीं को विचारक्रान्ति की गतिविधियों से जुड़कर कुछ साहसिक योजनाएँ बनानी होंगी। और उन्हीं को इन्हें क्रियान्वित भी करना होगा। अगर ऐसा कर पाने में तत्परता बरती जाय, तो न केवल युवाओं में दिशाहीनता की समस्या का अंत होगा, बल्कि बेरोजगारी एवं आरक्षण का भी कोई कारगर समाधान बन सकेगा।